मंत्र जाप करने के लिए कैसी माला का प्रयोग करे ? मंत्र जाप की माला | Mantra ke liye mala |

मंत्र जाप के लिए कौन सी माला का प्रयोग करना चाहिए ?

अगर मंत्रजाप के लिए सुयोग्य माला का प्रयोग किया जाये तो अवश्य मंत्र जाप का फल प्राप्त होता ही है | कैसी माला से कैसा फल प्राप्त होता है वो इस में में आज बता रहा हु | 

स्फटिकी मौक्तिकी वापि प्रोक्तव्या सित सूत्रकैः | 
अरिष्टपुत्र जिवैश्चाखैः प्रवालैः सहस्त्रकम || 
स्फटिकैलक्षः साहस्रं मौक्तिकैर्लक्षमेव च |
दश लक्षं राजताक्षैः सौवर्णैः कोटिरुच्यते ||
कुश्ग्रन्थया च रुद्राक्षै रअनन्तगुणितो भवेत् || 

रुद्राक्ष की माला से जाप करने से सर्वकर्म समृद्ध हो जाते है | 
स्फटिक की माला से जाप करने से लाख गुना फल प्राप्त होता है | 
मोती और चन्दन की माला से जाप करने से लाख गुना फल प्राप्त होता है | 
सुवर्ण की माला से मंत्र जाप करने से करोड़ गुना फल प्राप्त होता है | 

शंख की माला से जाप करने से वांछित फल की प्राप्ति होती है | 
औदुम्बर की माला से जाप करने से सर्व कर्म फल प्राप्त होता है |  
भद्राक्ष की माला से जाप करने से हजार गुना फल मिलता है | 
कमलगट्टे की माला से जाप करने से करोड़गुना फल प्राप्त होता है | 
पुत्रजीवक के बीज की माला से जाप करने से अगुणित-अक्षय फल प्राप्त होता है | 
मंत्र जाप की माला | Mantra ke liye mala |
मंत्र जाप के लिए माला 

किस देवता के लिए कौन सी माला ले ? 

गणेश उपासना में रकरचन्दन की माला का प्रयोग करे | 
लक्ष्मी उपासना के लिए स्फटिक और कमलगट्टे की माला का प्रयोग करे | 
शिव उपासना के लिये रुद्राक्ष की माला का प्रयोग करे | 
दुर्गा उपासना में रक्तचंदन की माला का प्रयोग करे | 
काली माँ के लिए कमलगट्टे की माला का प्रयोग करे | 
शत्रुनाश के लिए कालेरंग के मनके की माला का प्रयोग करे | 
आकर्षण के लिए श्वेत माला या वैजयंती माला का प्रयोग करे | 
विष्णु उपासना में तुलसी और वैजयंती माला का प्रयोग करे | 
शांतिकर्म में श्वेत चंदन की माला का प्रयोग करे | 
स्तम्भन और बगलामुखी साधना में हरिद्रा की माला का प्रयोग करे | 

|| अस्तु || 
|| जय श्री कृष्णा || 
मंत्र जाप करने के लिए कैसी माला का प्रयोग करे ? मंत्र जाप की माला | Mantra ke liye mala | मंत्र जाप करने के लिए कैसी माला का प्रयोग करे ? मंत्र जाप की माला | Mantra ke liye mala | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 7:40 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.