श्री कनकधारा स्तोत्र की कथा | Shri Kanakdhara stotra katha |


श्री कनकधारा स्तोत्र की उत्पत्ति कैसे हुई थी ? 

श्री कनकधारा स्तोत्र की कथा | Shri Kanakdhara stotra katha |
श्री कनकधारा स्तोत्र कथा 


श्री कनकधारा स्तोत्र अत्यंत और दुर्लभ है | किन्तु लक्ष्मी प्राप्ति के लिये यह रामबाण उपाय है | सिर्फ इतनाही नहीं किन्तु यह अपने आप में स्वयं सिद्ध है,ऐश्वर्य प्रदान करने में सर्वथा समर्थ है | इस स्तोत्र का प्रयोग करने से रंक भी राजा बन सकता है यह कई लोगो ने अनुभव में भी पाया है और इसी कथा से संदर्भित होता है | दरिद्र मनुष्य भी एकाएक धनोर्पार्जन करने लगता है | यह अद्भुत स्तोत्र तुरंत फलदायी है | किन्तु अगर यही स्तोत्र यंत्र के साथ किया जाये तो कहना ही क्या ? किन्तु इस यन्त्र को सिद्ध करने की विधि जटिल होने के वजह से बहुत कम लोग इसे जानते है | यह यन्त्र व् स्तोत्र के विधान से व्यापारी व्यापार में वृद्धि करता है,दारिद्र्य का नाश हो जाता है,दुःख दरिद्रता का विनाश हो जाता है | 



प्रसिद्ध शास्त्रोक्त ग्रन्थ में जिनका नाम "शंकर दिग्विजय" के "चौथे सर्ग में" इस कथा का उल्लेख है | 
एक बार शंकराचार्यजी भिक्षा के हेतु घूमते-घूमते एक सद्गृहस्थ निर्धन ब्राह्मण के वहा पहुंच गए | और कहा "भिक्षां देहि"
किन्तु संयोग से इन तेजस्वी अतिथि को देखकर संकोच के मारे उस ब्राह्मण की पत्नी लज्जित हो गई | क्योकि भिक्षा देने के लिए घर में एक दाना तक नहीं था | संकल्प में उलझी वो अतिथि प्रिय, पतिव्रता स्त्री को अपनी दुर्दशा पर रोना आ गया | 
और अश्रुपूर्ण आँखों को लेकर घर में से कुंछ आंवलो को लेकर आ गई | अत्यंत संकोच से इन सूखे आंवलो को उसने उस तपस्वी को भिक्षा में दिए | साक्षात् संकर स्वरुप उन शंकराचार्यजी को उसकी यह दीनता देखकर उस पर तरस आ गयी | 
करुणासागर आचार्यपाद का हृदय करुणा से भर गया | 



इंहोने तत्काल ऐश्वर्यदायी,दशविध लक्ष्मी देने वाली,अधिष्ठात्री,करुणामयी,वात्सल्यमयी,नारायण पत्नी,महालक्ष्मी को सम्बोधित करते हुए,कोमलकांत पद्यावली से एक स्तोत्र की रचना की थी और वही स्तोत्र "श्री कनकधारा स्तोत्र" के नाम से प्रसिद्ध हुआ | कनकधारा स्तोत्र की अनायास रचना से भगवती लक्ष्मी ने त्रिभुवन मोहन स्वरुप में आचार्य श्री के सम्मुख प्रकट हो गयी | तथा अत्यंत मधुरवाणी से पूछा | हे आचर्यावर अकारण ही मेरा स्मरण क्यों किया ? आचार्य शंकर ने ब्राह्मण परिवार की दरिद्र अवस्था को बताया | उसे संपन्न,सबल,एवं धनवान बनाने की प्रार्थना की | तब भगवान लक्ष्मी ने प्रत्युत्तर दिया "इस गृहस्थ के पूर्व जन्म के उपार्जित पापो के कारण इस जन्म में उसके पास लक्ष्मी होना संभव नहीं है | इसके प्रारब्ध में लक्ष्मी नहीं है | 

आचार्य शंकर ने गद्गदित भाव से कहा क्या मुज जैसे याचक के इस स्तोत्र की रचना के बाद भी यह संभव नहीं है ? भगवती महालक्ष्मी अंतर्ध्यान हो गई | लेकिन इतिहास साक्षी है "इस स्तोत्र के पाठ के बाद उस दरिद्र ब्राह्मण का दुर्दैव नष्ट हो गया | कनककी वर्षा हुए अर्थात सोने की वर्षा हुई" | इसी कारण से इस स्तोत्र का नाम कनकधारा नाम पड़ा | और इसी महान स्तोत्र के तीनों काल पाठ करने से अवश्य रंक भी राजा बनता है | 

|| श्री कनकधारा स्तोत्र कथा समाप्तः || 
श्री कनकधारा स्तोत्र की कथा | Shri Kanakdhara stotra katha | श्री कनकधारा स्तोत्र की कथा | Shri Kanakdhara stotra katha | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 4:54 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.