बगला प्रत्यङ्गिरा कवच | Bagala Pratyangira Kavach |

 

बगला प्रत्यङ्गिरा कवच 

बगला प्रत्यङ्गिरा कवच | Bagala Pratyangira Kavach |
बगला प्रत्यंगिरा कवच 


इस स्तोत्र का विधान रुद्रयामल में शिव पार्वती संवाद से उजागृत हुआ है | 
इस स्तोत्र के 100 पाठ से वायु भी स्थिर हो जाता है | 
किन्तु कलिकाल में इसके 400 पाठ करने चाहिए | 
अगर किसी ने कुछ कर दिया हो जैसे मारण,मोहन,उच्चाटन,स्तम्भन आदि तो यह कवच का पाठ जरूर करना ही चाहिए | 
इस कवच के पाठ से साधक के सभी कार्य सफल हो जाते है | 
और शत्रु का विनाश हो जाता है | 

विनियोग:
ॐ अस्य श्री बगला प्रत्यंगिरा मंत्रस्य नारद ऋषिः स्त्रिष्टुपछन्दः प्रत्यंगिरा देवता ह्लीं बीजं हूँ शक्तिः ह्रीं कीलकं ह्लीं ह्लीं ह्लीं ह्लीं प्रत्यंगिरा मम शत्रु विनाशे विनियोगः | 
ॐ प्रत्यंगिरायै नमः प्रत्यंगिरे सकल कामान साधय मम रक्षां कुरु कुरु सर्वान शत्रुन खादय खादय,मारय मारय,घातय घातय, ॐ ह्रीं फट स्वाहा | 
ॐ भ्रामरी स्तम्भिनी देवी क्षोभिणी मोहिनी तथा | 
संहारिणी द्राविणी च जृम्भणी रौद्ररूपिणी || 
इत्यष्टौ शक्तयो देवि शत्रु पक्षे नियोजताः | 
धारयेत कण्ठदेशे च सर्व शत्रु विनाशिनी || 
ॐ ह्रीं भ्रामरी सर्व शत्रून भ्रामय भ्रामय ॐ ह्रीं स्वाहा | 
ॐ ह्रीं स्तम्भिनी मम शत्रून स्तम्भय स्तम्भय ॐ ह्रीं स्वाहा | 
ॐ ह्रीं क्षोभिणी मम शत्रून क्षोभय क्षोभय ॐ ह्रीं स्वाहा | 
ॐ ह्रीं मोहिनी मम शत्रून मोहय मोहय ॐ ह्रीं स्वाहा | 
ॐ ह्रीं सँहारिणी मम शत्रून संहारय संहारय ॐ ह्रीं स्वाहा | 
ॐ ह्रीं द्राविणी मम शत्रून द्रावय द्रावय ॐ ह्रीं स्वाहा | 
ॐ ह्रीं जृम्भिणी मम शत्रून जृम्भय जृम्भय ह्रीं ॐ स्वाहा | 
ॐ ह्रीं रौद्रि मम शत्रून संतापय संतापय ॐ ह्रीं स्वाहा | 

|| इति बगला प्रत्यङ्गिरा कवच || 
बगला प्रत्यङ्गिरा कवच | Bagala Pratyangira Kavach | बगला प्रत्यङ्गिरा कवच | Bagala Pratyangira Kavach | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 4:10 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.