सूर्य को अर्घ्य क्यों दिया जाता है ? सूर्य को अर्घ्य देने का मंत्र | Surya ko arghya kyu dete hai ?


सूर्य को अर्घ्य क्यों दिया जाता है ?

सूर्य को अर्घ्य क्यों दिया जाता है ? सूर्य को अर्घ्य देने का मंत्र | Surya ko arghya kyu dete hai ?
सूर्य को अर्घ्य क्यों दिया जाता है ? 



सूर्य को अर्घ्य क्यों देना चाहिए ?
 या सूर्य को अर्घ्य क्यों देते है ?  
सूर्य अर्घ्य का महत्व

भगवान् सूर्य आरोग्य के देवता है |
सूर्य नारायण प्रसन्न होकर आयु-आरोग्य-स्थिरलक्ष्मी-धन-धान्य-पुत्र-यश-ब्रह्मतेजस-विद्या-वैभव 
आदि सभी सुख प्रदान करते है अगर नित्य अर्घ्य दिया जाए तो | 
अनगिनत प्रमाण और अनगिनत अनुभव इसमें साबित हो चुके है |
 जैसे सूर्य को अर्घ्य देने से कई प्रकार के लाभ मिलते है | 
किन्तु आज जिस विषय की हम बात कर रहे है उसमे 


हमे मिला की सूर्य उपनिषद कहता है 
सूर्य समग्र पुरे विश्व की आत्मा है |
 सूर्य की रश्मियों में देवता-गन्धर्व-ऋषि आदि निवास करते है |
 सूर्य उपासना के बिना किसी का कल्याण होना संभव नहीं है | 
चाहे आप कितनी भी उपासना कर ले | 
पञ्चदेवता की उपासना में सूर्य उपासना का विशेष महत्व है 
 अतः सूर्योपासना करनी ही चाहिए सूर्य उपासना में विशेष अर्घ्य का महत्व है | 

स्कंदपुराण में तो यहाँ तक लिखा है की 
बिना सूर्य अर्घ्य दिए खाना खाना भोजन करना पाप समान है |
 अतः सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए | इसी कारण से षष्ठी के अवसर पर सूर्य उपासना का विशेष पर्व मनाया जाता है | 


ब्रह्मपुराण भी कहता है 
मानसं वाचिकं वाऽपि कायजं यच्चदुष्कृतम् | 
सर्व सूर्यप्रसादेन तदऽशेषं व्यपोऽहति || 
जो भगवान् सूर्य की उपासना करता है उन्हें मनोभिलषित फल मिलता है | 
सूर्य साधक की सभी कामनाये पूर्ण करता है | 
उनकी कृपा से साधक मानसिक-वाचिक-शारीरिक सभी 
पीड़ाओं से मुक्त हो जाता है और सभी पापो का विनाश हो जाता है | 

अग्निपुराण के अनुसार गायत्री मंत्र से भी सूर्य को अर्घ्य देकर उपासना कर सकते है | 
स्कंदपुराण के अनुसार सूर्य आराधना करने से धर्म-अर्थ-कर्म-मोक्ष की प्राप्ति होती है | 
यजुर्वेद कहता है की सूर्य सभी कर्मो के साक्षी है चाहे हम जो भी कर्म करे शुभ या अशुभ हमारे सभी कर्मो के वो साक्षी है 
"साक्षी स्वरूपिणे सूर्यनारायणाय नमः| 
"जगचक्षु स्वरूपी सूर्याय नमः" 
अर्थात पुरे विश्व के चक्षु है भगवान् सूर्य | 
ऋग्वेद के अनुसार सूर्य को अर्घ्य देने से पापो से मुक्ति मिलती है | 
रोगो का विनाश हो जाता है | 
दरिद्रता का निवारण होता है | 
संतान की प्राप्ति होती है | 
सामाजिक मान-सन्मान प्राप्त होता है | 

शिवपुराण के अनुसार सूर्य को अर्घ्य देने की विधी | 
सूर्य अर्घ्य मंत्र 
सिन्दूरवर्णाय सुमण्डलाय नमोस्तु वज्राभरणाय तुभ्यम् | 
पद्माभनेत्राय सुपङ्कजाय ब्रह्मेन्द्रनारायणकारणाय | 
सरकतचूर्ण ससुवर्णतोयंस्त्रककुंकुमाँढ़यं सकुशं सपुष्पम् | 
प्रदत्तमादायसहेमपात्रं प्रशस्तमर्घ्यं भगवन प्रसीद || 

सिंदूर वर्ण के रूप मण्डलवाले,हीरे आदि आभूषण से अलङ्कृत,कमल के समान नेत्रोंवाले,
हाथ में कमल धारण किये हुए,ब्रह्मा-विष्णु- इन्द्रादि देवता के कारणभूत | हे आदित्य आपको मेरा नमस्कार है | 
हे भगवान् आप सुवर्ण पात्र में रक्तवर्ण ( रक्तचंदन ),कुमकुम,कुश,(दर्भ ) पुष्प से युक्त रक्तवर्ण वाले जल को 
स्वीकार करे | इस रक्तवर्णी अर्घ्य को स्वीकार करे || 

|| अस्तु || 

सूर्य को अर्घ्य क्यों दिया जाता है ? सूर्य को अर्घ्य देने का मंत्र | Surya ko arghya kyu dete hai ? सूर्य को अर्घ्य क्यों दिया जाता है ? सूर्य को अर्घ्य देने का मंत्र | Surya ko arghya kyu dete hai ? Reviewed by karmkandbyanandpathak on 8:46 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.