श्री युगलाष्टकम् | Shri Yugalashtakam |


श्री युगलाष्टकम् 

श्री युगलाष्टकम् | Shri Yugalashtakam |
श्री युगलाष्टकम् 


कृष्णप्रेममयी राधा राधाप्रेम मयो हरिः | 
जीवनेन धने नित्यं राधाकृष्णगतिर्मम् || 1 || 
कृष्णस्य द्रविणं राधा राधायाः द्रविणं हरिः | 
जीवनेन धने नित्यं राधाकृष्णगतिर्मम् || 2 || 
कृष्णप्राणमयी राधा राधाप्राणमयो हरिः | 
जीवनेन धने नित्यं राधाकृष्णगतिर्मम् || 3 || 
कृष्णद्रवामयी राधा राधाद्रवामयो हरिः | 
जीवनेन धने नित्यं राधाकृष्णगतिर्मम् || 4 || 
कृष्ण गेहे स्थिता राधा राधा गेहे स्थितो हरिः | 
जीवनेन धने नित्यं राधाकृष्णगतिर्मम् || 5 || 
कृष्णचित्तस्थिता राधा राधाचित्स्थितो हरिः | 
जीवनेन धने नित्यं राधाकृष्णगतिर्मम् || 6 || 
नीलाम्बरा धरा राधा पीताम्बरो धरो हरिः | 
जीवनेन धने नित्यं राधाकृष्णगतिर्मम् || 7 || 
वृन्दावनेश्वरी राधा कृष्णो वृन्दावनेश्वरः | 
जीवनेन धने नित्यं राधाकृष्णगतिर्मम् || 8 || 

|| श्री युगलाष्टकम् सम्पूर्ण || 


युगलाष्टक हिंदी अनुवाद 
श्री राधारानी श्रीकृष्ण के प्रेम में ओतप्रोत है | 
श्रीकृष्ण श्री राधारानी के प्रेम से 
जीवन के नित्य धनस्वरूप-श्री राधाकृष्ण मेरा आश्रय बने ( आश्रय हो ) || 1 || 
श्रीकृष्ण का धन श्री राधारानीजी ही है, 
और वैसे ही राधारानी का धन श्रीकृष्ण ही है'
जीवन के नित्य धनस्वरूप-श्री राधाकृष्ण मेरा आश्रय बने ( आश्रय हो ) || 2 || 
श्रीकृष्ण के प्राण श्रीराधाजी में बसते है 
और श्रीराधारानी जी के प्राण श्रीकृष्ण में | 
जीवन के नित्य धनस्वरूप-श्री राधाकृष्ण मेरा आश्रय बने ( आश्रय हो ) || 3 || 
श्रीकृष्ण के नाम से श्री राधाजी प्रसन्न हो जाती है | 
और श्री राधाजी के नाम से श्रीकृष्ण | 
जीवन के नित्य धनस्वरूप-श्री राधाकृष्ण मेरा आश्रय बने ( आश्रय हो ) || 4 || 
श्रीराधारानीजी श्रीकृष्ण के घर में स्थित है | 
श्रीकृष्ण श्रीराधारानी जी के घर में स्थित है | 
जीवन के नित्य धनस्वरूप-श्री राधाकृष्ण मेरा आश्रय बने ( आश्रय हो ) || 5 || 
श्रीराधाजी के मन में श्रीकृष्ण स्थित है | 
श्रीकृष्ण के मन में राधाजी स्थित है | 
जीवन के नित्य धनस्वरूप-श्री राधाकृष्ण मेरा आश्रय बने ( आश्रय हो ) || 6 || 
श्रीराधारानी जी नीलेवस्त्र धारण करती है |
 और भगवान् श्रीकृष्ण पीतवस्त्र ( पीलेवस्त्र ) | 
जीवन के नित्य धनस्वरूप-श्री राधाकृष्ण मेरा आश्रय बने ( आश्रय हो ) || 7 || 
राधारानीजी श्रीवृन्दावन की देवीजी है,
कृष्णजी वृन्दावन के देवता है | 
जीवन के नित्य धनस्वरूप-श्री राधाकृष्ण मेरा आश्रय बने ( आश्रय हो ) || 8 || 

|| श्री युगलाष्टकम् || 


श्री युगलाष्टकम् | Shri Yugalashtakam | श्री युगलाष्टकम् | Shri Yugalashtakam | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 8:26 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.