विष्णु स्तुति | Vishnu Stuti |


 विष्णु स्तुति 


Vishnu Stuti


 विष्णु स्तुति 

एक ऐसा स्तोत्र जो विष्णु ने कृष्ण के लिया किया था 

पुरुषोत्तम मास में 

जब भगवान् ने भगवान् की स्तुति की 

तब भगवान् ने भगवान् को जो वरदान दिया 

सुबह सुबह उठकर सिर्फ एक बार बोले यह 

भगवान् कृष्ण ने वरदान दिया है 

सभी पापो का विनाश कर देगा 

बुरे स्वप्नों का नाश हो जाएगा 

मान सन्मान की प्राप्ति होगी 


|| श्री विष्णुरुवाच || 

वन्दे विष्णुं गुणातीतं गोविन्दमेकअक्षरं | 

अव्यक्तमव्ययं व्यक्तं  गोपवेशविधायिनं || 

किशोरवयशं शान्तं गोपीकांतं मनोहरं | 

नवीननीरदश्यामं कोटिकन्दर्पसुन्दरं || 

वृन्दावनवनाभ्यन्ते रासमण्डलसंस्थितं | 

लसत्पीतपटं सौम्यं त्रिमंगळलिताकृतिं || 

 रासेस्वरं रासवासं रासाल्लाससमुत्सुकं | 

द्विभुजं मुरलोहस्तं पीतवाससमच्युतं || 


इत्येवमुक्त्वा तं नत्वा रत्नसिंहासने वरे | 

पार्षदैः सत्कृतो विष्णुः स उवास तदाज्ञया || 

श्री नारायण उवाच 

इति विष्णुकृतं स्तोत्रं प्रातरूत्थाय यः पठेत | 

पापानि तस्य नश्यन्ति दुःस्वप्नः सत्फलप्रदः || 

भक्तिर्भवति गोविन्दे पुत्रपौत्रविवर्द्धिनी | 

अकीर्तिः क्षयमाप्नोति सत्कीर्तिर्वर्द्धते चिरं ||

|| अस्तु || 

विष्णु स्तुति | Vishnu Stuti |  विष्णु स्तुति | Vishnu Stuti | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 4:45 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.