ads

शिव पञ्चाक्षर स्तोत्रम् | Shiv Panchakshar Stotra |

 

शिव पञ्चाक्षर स्तोत्रम्

शिव पञ्चाक्षर स्तोत्रम् 


नागेन्द्रहाराय त्रिलोचनाय भस्माङ्गरागाय महेश्वराय | 
नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय तस्मै न काराय नमः शिवाय || १ ||  
जिनके कण्ठमें साँपोंका हार है, जिनके तीन नेत्र हैं, भस्म ही जिनका अङ्गराग है, दिशाएँ ही जिनका वस्त्र हैं | 
उन शुद्ध अविनाशी महेश्वर न कारस्वरुप शिवको नमस्कार है || १ || 
 

मन्दाकिनीसलिलचन्दनचर्चिताय नन्दीश्वरप्रमथनाथमहेश्वराय | 
मन्दारपुष्पबहुपुष्पसुपूजिताय तस्मै म काराय नमः शिवाय || २ || 
गङ्गाजल और चन्दनसे जिनकी अर्चा हुई है, मन्दार पुष्प तथा अन्यान्य कुसुमोंसे जिसकी सुन्दर पूजा हुई है, उन नन्दीके अधिपति प्रेमथगणोंके स्वामी महेश्वर म कारस्वरुप शिवको नमस्कार है | 


शिवाय गौरीवदनाब्जवृन्द सूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय | 
श्रीनीलकण्ठाय वृषध्वजाय तस्मै शि काराय नमः शिवाय || ३ || 
जो कल्याणस्वरुप हैं, पार्वतीजीके मुखकमलको विकसित करनेके लिये जो सूर्यस्वरुप हैं, जो दक्षके यज्ञका नाश करनेवाले हैं, जिनकी ध्वजामें बैलका चिह्न है, उन शोभाशाली नीलकण्ठ शि कारस्वरुप शिवको नमस्कार है || ३ || 


वसिष्ठकुम्भोद्भवगौतमार्य मुनीन्द्रदेवार्चितशेखराय | 
चन्द्रार्कवैश्वानरलोचनाय तस्मै व काराय नमः शिवाय || ४ || 
वसिष्ठ अगस्त्य और गौतम आदि श्रेष्ठ मुनियोंने तथा इन्द्र आदि देवताओंने जिनके मस्तककी पूजा की है, चन्द्रमा, सूर्य और अग्नि जिनके नेत्र हैं, उन व कारस्वरुप शिवको नमस्कार है || ४ || 


यक्षस्वरुपाय जटाधराय पिनाकहस्ताय सनातनाय | 
दिव्याय देवाय दिगम्बराय तस्मै य काराय नमः शिवाय || ५ || 
जिन्होंने यक्षरुप धारण किया है, जो जटाधारी हैं, जिनके हाथमें पिनाक है, जो दिव्य सनातन पुरुष हैं, उन दिगम्बर देव य कारस्वरुप शिवको नमस्कार है || ५ || 


पञ्चाक्षरमिदं पुण्यं यः पठेच्छिवसन्निधौ | 
शिवलोकमवाप्नोति शिवेन सह मोदते || ६ || 
जो शिवके समीप इस पवित्र पञ्चाक्षरस्तोत्रका पाठ करता है, वह शिवलोकको प्राप्त करता है ोे वहाँ शिवजीके साथ आनन्दित होता है || ६ || 

|| इति श्रीमच्छङ्कराचार्यविरचितं शिवपञ्चाक्षरस्तोत्रं सम्पूर्णम् ||      
शिव पञ्चाक्षर स्तोत्रम् | Shiv Panchakshar Stotra | शिव पञ्चाक्षर स्तोत्रम् | Shiv Panchakshar Stotra | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 1:54 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.