नित्य कर्म | नित्य कर्म क्या है ? Nitya Karma |


नित्य कर्म 

हर एक मनुष्य एक दुविधा में रहता है की नित्य कर्म कौन से है ?
नित्य कर्म क्या है ? नित्य क्रम में क्या करना चाहिये ?
तो यहाँ एक शास्त्रोक्त प्रमाण दे रहा हु | 
हमारे शास्त्रों में षट कर्म बताये है जो नित्य करने से सबकुछ प्राप्त होता है | 

नित्य कर्म | नित्य कर्म क्या है ? Nitya Karma |
नित्यकर्म 

|| नित्य कर्म || 
स्नानं संध्या जपो होमः स्वाध्यायो देवतार्चनं |
तर्पणं वैश्वदेवं च षट कर्माणि दिने दिने || 

|| श्लोकार्थ || 
स्नान - जो हमारे देह को शुद्ध करने के लिये आवश्यक है किन्तु आत्मशुद्धि और पूजा के अधिकार को प्राप्त करने के लिये बहुत ही जरुरी है | 

संध्या - त्रिकाल संध्या का प्रावधान है शास्त्रों में प्रातःसंध्या,मध्यान्ह संध्या,सायंसन्ध्या यह प्रतिदिन करनी चाहिये | 
संध्या करने से देह स्वस्थ रहता है और कई सारे लाभ होते है | 

जप - जो जन्मो के पापो का विनाश करे उसे जप कहते है यह भी एक महत्वपूर्ण अंग है प्रतिदिन गायत्री का जाप तथा अपने इष्टदेवता का जाप करने चाहिए | 

होम - यज्ञ प्रतिदिन प्रायश्चित्त करने के लिये और धन आदि प्राप्ति के लिये यज्ञ करना चाहिये | 

स्वाध्याय - स्व अध्ययन यानी स्वाध्याय प्रति दिन करना चाहिये वेदो का पुराणों का उपनिषदों का पाठ करे वो | 

वैश्वदेव - विश्व के देवो को प्रसन्न करने के लिये और पांच प्रकार के पापो से मुक्त होने के लिये यह कर्म करना चाहिए | 

इसके अलावा तर्पण- और भगवान् का अर्चन भी करना चाहिए || 

|| अस्तु || 
|| जय श्री कृष्ण || 
नित्य कर्म | नित्य कर्म क्या है ? Nitya Karma | नित्य कर्म | नित्य कर्म क्या है ? Nitya Karma | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 2:51 PM Rating: 5

1 comment:

  1. sir ma roz aapke post dekhta hu aur kuch naya sikhta hu ,sir ek request ha ky aap havan kaise karte ha uski vidhi bata sakte ha?

    ReplyDelete

Powered by Blogger.