शिव पंचाक्षरी मंत्र | ॐ नमः शिवाय | भगवान शिव का प्रिय मंत्र | Shiv panchakshrari mantra |


शिव पंचाक्षरी मंत्र 


भगवान् भोलेनाथ-महादेव-शिव का सरल सुगम और सबसे प्रिय मंत्र "ॐ नमः शिवाय"
जैसे हमारे ऋषियों ने कहा है "शिवमंत्र महामंगल कारी " ॐ नमः शिवाय - ॐ नमः शिवाय " 

बहुत से शिव भक्त भगवान् शिव की उपासना मूलमंत्र से करते है जो है 
ॐ नमः शिवाय किन्तु अगर इसी मन्त्र को शास्त्रोक्त विधान के साथ किया जाए तो उसमे पूछना ही क्या ?
यह चारो और से भगवान् शिव की पूर्ण कृपा देता है, इसमें कोई संदेह नहीं है | 

शिव पंचाक्षरी मंत्र | ॐ नमः शिवाय | भगवान शिव का प्रिय मंत्र | Shiv panchakshrari mantra |
शिव पंचाक्षरी मन्त्र 


इस मंत्र का विधान 
इस मंत्र के शास्त्रोक्त विधान में विनियोग-न्यास-भगवान् शिव का ध्यान करने के बाद ही इस मंत्र का मंत्र जाप करे | 

विनियोगः 
ॐ अस्य मंत्रस्य वामदेवऋषि, पंक्ति छंद, ईशानदेवता, ॐ बीजाय, नमः शक्तये, शिवायेति कीलकाय, सदाशिव प्रसन्नार्थे जपे विनियोगः | 

ऋष्यादिन्यास 
ॐ वामदेवर्षये नमः शिरसि | बोलकर अपने सर को स्पर्श करे | 
पंक्ति छन्दसे नमः मुखे | बोलकर मुख को स्पर्श करे | 
ईशान देवतायै नमः हृदि | बोलकर ह्रदय को स्पर्श करे | 
बीजाय नमः गुह्ये | बोलकर अपने गुप्त भाग को स्पर्श करे | 
नमः शक्तये नमः पादयोः | बोलकर अपने दोनों पैरो को स्पर्श करे | 
शिवायेति कीलकाय नमः नाभौ | बोलकर अपनी नाभि को स्पर्श करे | 
विनियोगाय नमः सर्वांगे | बोलकर अपने दोनों हाथो को अपने सर से लेके पैरो तक घुमाये या फेरे | 


पञ्चाङ्गन्यास 
ॐ ॐ अंगुष्ठाभ्यां नमः | ॐ नं तर्जनीभ्यां नमः | ॐ मं मध्यमाभ्यां नमः | ॐ शिं अनामिकाभ्यां नमः | 
ॐ वां कनिष्ठिकाभ्यां नमः | ॐ यं करतलकरपृष्ठाभ्यां नमः | 

हृदयादिन्यास 
ॐ ॐ हृदयाय नमः | ॐ नं शिरसे स्वाहा | ॐ मं शिखायै वौषट | 
ॐ शिं कवचाय हुम् | ॐ वां नेत्रत्रयाय वौषट | ॐ यं अस्त्राय फट | 


ध्यान 
भगवान् शिव के आगे नतमस्तक होकर ध्यान करे दोनों आँखे बांध करे | 
अगर मन्त्र मुखपाठ न हो तो आँखे खोलकर मंत्र पढ़कर ध्यान धरे | 
ॐ ध्यायेन्नित्यं महेशं रजतगिरिनिभं चारुचंद्रा वतंसं 
रत्नाकल्पोज्ज्वलांगं परशुमृगवराभीति हस्तं प्रसन्नं | 
पद्मासीनं समन्तात्स्तुममरगणै व्याघ्रकृत्तिं वसानं 
विश्वाद्यं विश्ववंद्यं निखिलभयहरं पंचवक्त्रं त्रिनेत्रं || 

कौन सी माला का प्रयोग करे ?
इस मंत्र जाप के लिए रुद्राक्ष की माला का प्रयोग करे | 

मंत्र : "ॐ नमः शिवाय " 

कितने मंत्र जाप करने चाहिये ?
इस मंत्र के सवालक्ष मंत्र कर सकते है या 
इस का मूल अनुष्ठान ५ लाख मंत्रो का है वो करे या 
प्रतिदिन ११ माला भी कर सकते है | 
या फिर प्रथम अनुष्ठान १२००० मंत्र यानी १२० माला करे 
पश्चात् दशांश हवन- तर्पण-मार्जन करे | 

कब करना चाहिए ?
महाशिवरात्रि - या प्रतिमाह की शिवरात्रि या अमावस्या को यह मंत्र कर सिद्ध करे | 

|| ॐ नमः शिवाय || 
|| अस्तु || 
|| जय श्री कृष्ण || 

|| Shiv Panchakshari Mantra || 




शिव पंचाक्षरी मंत्र | ॐ नमः शिवाय | भगवान शिव का प्रिय मंत्र | Shiv panchakshrari mantra | शिव पंचाक्षरी मंत्र | ॐ नमः शिवाय | भगवान शिव का प्रिय मंत्र | Shiv panchakshrari mantra | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 11:52 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.