बिल्वपत्र की महिमा | बेलपत्र के प्रकार | Bilvapatra Mahima |


बिल्वपत्र की महिमा 

बिल्वपत्र जिसे बेलपत्र भी कहा जाता है | भगवान् शिव को प्रसन्न करने के लिए उन्हें अर्पण किया जाता है | भगवान् शिव के पूजन में बिल्वपत्र चढाने का विशेष महत्व है | जैसे शास्त्रों में भी प्रमाण है,

बिल्वपत्र की महिमा | बेलपत्र के प्रकार | Bilvapatra Mahima |
बिल्वपत्र के प्रकार 
"अमृतोद्भव श्रीवृक्ष महादेवप्रियः सदा"
"महादेवस्य च प्रियं"
सिर्फ एक बिल्वपत्र अर्पण करने मात्र से ही तीन जन्मो के पापोंका विएंश हो जाता है | 
"त्रिजन्मपाप संहारं एक बिल्वाशिवार्पणं"
इतना अद्भुत बिल्वपत्र का माहात्म्य है | 



बिल्वपत्र के प्रकार 
चारप्रकर के बिल्वपत्र मुख्यरूप से दार्शनिक है | 
एकप्रकार है - अखण्डबिल्वपत्र है | 
"अखण्डबिल्वपत्र"जितना एकमुखी रुद्राक्ष का महत्व है उतनाही चमत्कारिक अखंड बिल्वपत्र का महत्व है | क्युकी यह स्वयं अपने आप में लक्ष्मी का रूप माना गया है | भी बासी नहीं होता | गंगाजल से धोने के बाद वापिस शिव को अर्पण किया जाता है | इसमें स्वयं लक्ष्मीजी निवास करते है | 

दूसरा प्रकार - त्रिपत्र यानी तीनपत्तोंवाला बिल्वपत्र है 
जैसे बिल्वाष्टक में लिखा है "त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रयायुधं"ये बिल्वपत्र तीन जन्मो के पापो के विनाश करते है | 



तीसरा प्रकार है - छह से लेकर इक्कीस पत्तो वाला बिल्वपत्र है | 
जिस तरह से अनेक मुखवाले रुद्राक्ष होते है वैसे ही उसी तरह अनेक पत्तोंवाले बिल्वपत्र भी होते है | किन्तु ये माना जाता है यह नेपाल के नजदीकी विस्तारो में ही प्राप्त होते है यह दुर्लभ है | दुर्भाग्य को दूर करने वाले है | 

चौथा प्रकार - श्वेत बिल्वपत्र है | 
यह इतना दुर्लभ है की करोडो जन्मो के पुण्य एकत्रित हो तभी ही यह प्राप्त हो सकता है | जिस तरह से गणेशजी को श्वेत दूर्वा प्रिय है किन्तु दुर्लभ है वैसे ही महादेव प्रिय यह श्वेत बिल्वपत्र है | 

|| बिल्वपत्र महिमा समाप्तः || 

बिल्वपत्र की महिमा | बेलपत्र के प्रकार | Bilvapatra Mahima | बिल्वपत्र की महिमा | बेलपत्र के प्रकार | Bilvapatra Mahima | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 12:45 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.