तुलसी पत्ता तोड़ने का मंत्र | तुलसी मन्त्र | तुलसी पत्ता कब तोडना चाहिए ? Tulsi Mantra |


तुलसी पत्ता तोड़ने का मंत्र 
तुलसी पत्ता कब तोडना चाहिए ? Tulsi Mantra |
तुलसी मंत्र 

तुलसी पत्ता तोड़ने से पहले सदैव बात रखे यह बाते | 
क्युकी बहुत काम लोग यह जानते है की तुलसी पत्ता ऐसे वैसे नहीं तोडना चाहिए 
यह दोष कारक होता है | 

तुलसी पत्र को कैसे तोडना चाहिए ? 
तुलसी के एक एक पत्ते को बिना पत्तियों के अग्र भाग को तोडना चाहिए | 
तुलसी पौधे को हिलाये बिना ही अग्रभाग से पत्ता तोडना चाहिए | 

तुलसी पत्ता तोड़ने का मंत्र 
तुलसी पत्ता तोड़ते समय अगर मंत्र बोलै जाए तो जिस प्रावधान के लिये हम तुलसी पत्र को तोड़ते है उसमे हमें सफलता मिलती है | 
उस पूजा का फल लाख गुना बढ़ जाता है | 
मंत्र 
तुलस्यमृतजन्मासि सदा त्वं केशवप्रिया | 
चिनोमि केशवस्यार्थे वरदा भव शोभने | 
त्वदङ्ग सम्भवैः पत्रैः पूजयामि यथा हरिं |
तथा कुरु पवित्राङ्गी कलौ मलविनाशिनी || 
इस मंत्र को बोलने के बाद या बोलते समय तुलसी पत्ता तोड़े | 
इस प्रकार से पत्ता तोड़ने से कलियुग के सभी मल विनाश हो जाते है | 

तुलसी पत्ता कब तोडना चाहिए ? 
तुलसी पत्ता मंगलवार-शुक्रवार-रविवार नहीं तोडना चाहिए | 
वैधृतियोग-व्यतिपातयोग के दिन नहीं तोडना चाहिए | 
द्वादशितिथी-पूर्णिमा-और अमावस्या के दिन नहीं तोडना चाहिए | 
संक्रांति के दिन या जनना या मरणा शौच में ( सूतक में ) नहीं तोडना चाहिए | 
प्रातःकाल-मध्याह्नकाल में - सायंकाल में नहीं तोडना चाहिए | 
किसी भी पर्व-त्यौहार के दिन नहीं तोडना चाहिए | 

किन्तु शास्त्रों में यह भी लिखा हुआ है की बिना तुलसी के नारायण अधूरे माने जाते है तो ऐसे में क्या करना चाहिए ?
तो ऐसे समय में स्वयं गिरे हुए तुलसी के पत्ते लेकर भगवान् विष्णु को अर्पण करे | 
जिसके घर में शालिग्राम है वो सभी दिनों में तुलसी पत्ता तोड़सकते है उन्हें कोई दोष नहीं लगता | निषिद्ध दिनों में भी वह पत्ता तोड़ सकते है | 
बिना स्नान किये या जूते पहनकर कभी भी तुलसी पत्ता ना तोड़े | 

|| तुलसी मंत्र समाप्तः || 

Tulsi Mantra 

तुलसी पत्ता तोड़ने का मंत्र | तुलसी मन्त्र | तुलसी पत्ता कब तोडना चाहिए ? Tulsi Mantra | तुलसी पत्ता तोड़ने का मंत्र | तुलसी मन्त्र | तुलसी पत्ता कब तोडना चाहिए ? Tulsi Mantra | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 6:26 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.