ads

विष्णु के 20 नाम | Vishnu 20 naam |


विष्णु के 20 नाम

विष्णु के 20 नाम

भगवान ने स्वयं कहा है माहात्म्य में 
इसके पाठ से मनुष्य अंतःकरण के पापो से मुक्त हो जाता है | 
इसके पाठ से एक करोड़ गौ दान का फल मिलता है | 
एक सौ अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है | 
एक हजार कन्यादान का फल मिलता है | 
अमावस-पूर्णिमा-एकादशी में इसका पाठ करने से पापो का नाश हो जाता है | 
केवल एक पाठ से भी सभी पापो का विनाश हो जाता है | 

अर्जुन उवाच 
किं नु नाम सहस्त्राणि जपते च पुनः पुनः | 
यानि नामानि दिव्यानि तानि चाचक्ष्व केशव || १ || 


श्रीभगवानुवाच 
मत्स्यं कूर्मं वराहं च वामनं च जनार्दनम् | 
गोविन्दं पुण्डरीकाक्षं माधवं मधुसूदनम् || २ || 

पद्मनाभं सहस्त्राक्षं वनमालिं हलायुधम् | 
गोवर्धनं हृषिकेशं वैकुण्ठं पुरुषोत्तमम् || ३ || 

विश्वरूपं वासुदेवं रामं  नारायणं हरिम् | 
दामोदरं श्रीधरं च वेदांगं गरुडध्वजम् || ४ || 

अनन्तं कृष्णगोपालं जपतो नास्ति पातकम् | 
गवां कोटिप्रदानस्य अश्वमेधशतस्य च || ५ || 

कन्यादानसहस्त्राणां फलं प्राप्नोति मानवः | 
अमायां वा पौर्णमास्यामेकादश्यांतथैव च || ६ || 

संध्याकाले स्मरेन्नित्यं प्रातःकाले तथैव च | 
मध्याह्ने च जपन्नित्यं सर्वपापैः प्रमुच्यते || ७ || 

|| श्रीकृष्णार्जुन सम्वादे श्रीविष्णोरष्टाविंशतिनाम स्तोत्रं सम्पूर्णं || 



|| अस्तु || 






 
विष्णु के 20 नाम | Vishnu 20 naam | विष्णु के 20 नाम | Vishnu 20 naam | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 4:06 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.