ads

स्वस्ति प्रार्थना मंत्र | Shantipath mantra |

 

स्वस्ति प्रार्थना 

स्वस्ति प्रार्थना मंत्र


हरिः ॐ ॐ स्वस्तिनऽइन्द्रो वृद्धश्रवाः

 स्वस्तिनः पूषाव्विश्ववेदाः || 

स्वस्तिनस्तार्क्ष्योऽअरिष्ट्टनेमिः

 स्वस्तिनोबृहस्प्पतिर्दधातु || 


हे तेजस्वी इंद्र ऐश्वर्यशाली इन्द्र हमारा कल्याण करे,

सर्वज्ञ और सबके पोषणकर्ता पूषादेव ( सूर्य ) हमारे मङ्गल का विधान करे | 

चक्र की समान  कोई रोक नहीं सकता वो तार्क्ष्यदेव हमारा कल्याण करे | 

वेदवाणी के स्वामी बृहस्पति हमारे कल्याण का विधान करे |   

|| अस्तु || 

स्वस्ति प्रार्थना मंत्र | Shantipath mantra | स्वस्ति प्रार्थना मंत्र | Shantipath mantra | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 10:29 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.