ads

तुलसी को जल अर्पण करते समय यह श्लोक बोलना चाहिये |


 तुलसी को जल अर्पण करते समय यह श्लोक बोलना चाहिये 

 तुलसी को जल अर्पण करते समय यह श्लोक बोलना चाहिये


या दृष्टा निखिलाघसंघशमनी स्पृष्टा वपुष्पावनी 
रोगाणामभिवन्दिता निरसनी सिक्तान्तकत्रासिनी | 
प्रत्यासत्तिविधायिनी भगवतः कृष्णस्य संरोपिता 
न्यस्ता तच्चरणे विमुक्तिफलदा तस्यै तुलस्यै नमः || 

जो दर्शन करनेपर सारे पापसमुदायका नाश कर देती है, 
स्पर्श करनेपर शरीरको पवित्र बनाती है, 
प्रणाम करनेपर रोगोंका निवारण करती है, 
जलसे सींचनेपर यमराजको भी भय पहुँचाती है, 
आरोपित करनेपर भगवान् श्रीकृष्णके समीप ले जाती है और भगवान् के चरणोंमें चढ़ानेपर मोक्षरुपी फल प्रदान करती है, 
उस तुलसी देवीको नमस्कार है | 

|| अस्तु || 
तुलसी को जल अर्पण करते समय यह श्लोक बोलना चाहिये |  तुलसी को जल अर्पण करते समय यह श्लोक बोलना चाहिये | Reviewed by karmkandbyanandpathak on 3:35 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.